Poetry

जहां

गुम-गुम सा
सुन-सुन सा
सारा जहां लगता है
अब बेगाना-सा
ये घर संसार लगता है
बाजारो की भीड़ मे घुटता
ये इंसान लगता है
अब तो अपना
भी पराया लगता है
खो जाने वाली भीड़ मे
तन्हां-सा मकान लगता है
बन्दिशो मे बन्धा है  जहां
उस कुँए से
छोटा-सा आसमा लगता है
गुम है यहाँ सारी दिशाएं
गोल-सा सारा जहां लगता है
प्यार के इन्तजार मे
प्यासा सारा जहां लगता है
घुँआ-ही-धुँआ है यहाँ
मौत का ताडंव लगता है
मौत भी क्या मौत दे
जिन्दा लाशो का ढेर लगता है
चाबी  भरकर चलता-सा
ये पुरा जहां लगता है।

Poetry

गुन्हा

ये उनका गुन्हा था
या हम ही कुछ
ऐसा कर बैठे।
अनजानी राहों पर जो
खुद को ले जाने पर
मजबूर कर बैठे।
हर पल की ताबीर
को साथ लेकर
एक तस्वीर तो
बना ली हमने।
पर उस को जहां के सामने
नुमाइस कर गुन्हा कर बैठे।
और इस दौर-ऐ- तिजारत में
खुद को ही गवा बैठे।

Poetry

लम्हे

हर लम्हा नया रस लाता
जीवन का नया ही ताल सुनाता
जीवन में कितने रंग बिखरे
अहसास करा जाता
पर कुछ लम्हे निरस से रह जाते
कुछ अहसास नही होता
सब पास हो कर भी
कुछ पास नही होता
दोस्तो के बीच भी
तन्हाई घेर जाती है तब
दोस्त भी बेगाने और
दुश्मन भी अनजाने
नजर आते है तब।

Poetry

वो रिश्तें

जिन रिश्तों में
दिल का ख्वाब था
जिन्हें पाला-पोसा
सिचां हमने
वो आज बड़े हो
खुद चलने लगे है
सब कुछ
सिखाया था हमने
पीछे मुड़ने के सिवा
वो हमे आज
पिछे छोड़ चले है

Poetry

रिश्ते

कुछ अनजाने से रिश्ते
कुछ पहचाने
कुछ अजनबी से लगे
समय के मेल से बने
पता नही कब तक
मन मे बसे रहे
पेड़ के सुखे पत्ते से
पत्तो से हल्के
पर पत्तर से भारी लगे
पेड़ जुदा करना चाहे
पर कर न पाऐ
किसी छोकें के इन्तजार में
आसमा को तकता रहे।

Poetry

तमन्ना

हर तमन्ना उठती है
इश्क की ताबीर से
बह जाती है
वक्त की रुखसाई से
विषक्त हो जाती है
जमाने की रुसवाई से
तीर्व है जो
आवेग से भरी
छा जाए धुआ बन
हस्ती पर मेरी
गरजते है बादल तब
लाज-हया के बन्धन
टकराते है जब

Poetry

मोती थी मैं

7bcc6be092d4e42b1e8d4da5d5f84c80मोती थी जब तक सिप में थी
डोलती, घुमती बस मदहोश थी
उस समुद्र ने फिर छोड़ दिया
अन्जाने किनारे को सोंप दिया
बस अब तो नाम ही है साथ
बाकी तो खुला है आकाश
पत्तरो में अपना वजुद खोजते है
इस दुनिया कि रंगीनी से डरते है
या तो कोई माला में पिरोऐगा
या हंस कोई चुग जाएगा।

Poetry

जुस्तजु

हँस हम भी लेते है जालिंम ,
जमाने को देखकर।
पर दर्दे-ए-दिल का आलम,
बया तन्हाईया ही करेगी।
जी रहे किस तरह
ओढ  लबादा-ए-दरोग़।
जुस्तजु-ए-दिल तो
बया खामोशियाँ ही करेगी॥