Poetry

नहीं सकते

064-mustsee-digital-art-elena-dudinaतुझे पा भी नहीं सकते
तुझे जान भी नहीं सकते
तेरे लिए इन साँसों को
रुका भी नहीं सकते
फिर भी कमबख्त
कोई साँस
रूक ही जाती है
तेरे नाम पे |

तेरे लिए रो भी नहीं सकते
तेरे लिए हँस भी नहीं सकते
तेरे लिए इस दिल को
धड़का भी नहीं सकते
फिर भी कमबख्त
कोई धड़कन
धड़क ही जाती है
तेरे दीदार पे |

तुझे टूट कर
चाह भी नहीं सकते
तुझे उस रब से
मांग भी नहीं सकते
फिर भी कमबख्त
सजदे-ए-दुआ मे कोई
फरियाद आ ही जाती है
तेरे अहसास पे |

14 विचार “नहीं सकते&rdquo पर;

  1. Beautiful 🙂
    I have started a site pennpoets.com
    pennpoets is a poets community, a place where poets from all over the world can connect with each other, share their poems, Follow your favorite poet, Like & comment on other’s posts, and lot more
    Sign up for pennpoets.com now 🙂
    https://www.pennpoets.com/
    Hope to see you there 🙂

    पसंद करें

  2. Nice one yaar , some add-on from my side on these beautiful lines.
    तूझे खोभी नहीं सकते
    तूझे पा भी नहीं सकते
    पता नहीं कमबख्त
    तेरी यादें अब भूला भी नहीं सकते ।।

    तूझसे मौहौबत भी ना करते
    तूझसे नफरत भी ना करते
    पर चाह कर भी इतना
    तूझे भूल भी ना सकते ।।

    पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s